अँगडा़ई

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँगडा़ई संज्ञा स्त्री॰ [ हिं॰ अँगडा़ना + ई ( प्रत्य॰) ] [ क्रि॰ अँगडा़ना ] आलस से जम्हाई के साथ अंगों को फैलाना, मरोड़ना या तानना । देह के बंद या जोड के भारीपन को हटाने के लिये अवययों को पसारना या तानना । शरीर के लगातार एक स्थिति में रहने के कारण जोडों या बंदों के भर जाने पर अवयवों को फैलाना । अँगडा़ने की क्रिया या भाव । देह टूटना । टूटना । उ॰— जलधि लहरियों की अँगडाई बार बार जाती सोने ।—कामायनी, पृ॰ २३ । विशेष—सोकर उठने पर या ज्वर आने से कुछ पहले यह प्राय: आती है । क्रि॰ प्र॰—आना ।—लेना । उ॰— खुदा के वास्ते तनकर न ले तू अँगडा़ई । कि बंद बंद बुते बेहिजाब चटकेगा (फै॰) । मुहा॰—अँगडाई तोड़ना = (१) आलस्य में बैठे रहना । कुछ काम न करना । (२) किसी के कंधे पर हाथ रखकर अपने शरीर का भार उसपर देना ।