अँगराग

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँगराग पु संज्ञा पुं॰ दे॰ 'अंगराग'—१ । उ॰— नृप द्वार कुमारि चलीं पुर की, अँगराग सुगंध उडै गहरी ।—बुद्ध व॰, पृ॰ २४ ।