अँगौंगा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँगौंगा संज्ञा पुं॰ [सं॰ अग्र=अगला+अंग=भाग] अन्न या और किसी वस्तु का वह भाग जो धर्मार्थ पहले निकाल लिया जाय । धर्मार्थ बाँटने या देवता को चढ़ाने के लिये अलग निकाला हुआ अंश । अँगऊँ । पुजौरा ।