अँचार

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँचार पु † संज्ञा पुं॰ दे॰ 'अचार ^१' ।—उ॰—पापर, बरी, अँचार परम सुचि । अदरख अरु निबुआनि ह्वैहै रुचि ।—सूर॰, १० ।२१३ ।