अँधा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँधा ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ अन्धक, प्रा,॰ अन्धअ] [स्त्री॰ अंधी] बिना आख का जीव । वह जिसको कुछ सुझता न हो । वह जीव जिसके आँखों में ज्योति न हो । ददष्टिरहित जीव । उ॰— जानता बुझा नहीं बुझि किया नहीं गौन । अंधे को अंधा मिला राह बताव कौन ।—कबीर सा॰, सं॰, भा॰१, पृ,॰ १४ ।