अँबराव

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँबराव पु संज्ञा पुं॰ दे॰ 'अँबराई' । उ॰ —अस अँमराव सघन बन, बरनि न पारौं अंत ।—जायसी (शब्द॰) ।