अंतर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

अंतर अथवा अन्तर शब्द का उपयोग सामान्यतः किन्ही दो निकायों अथवा एक ही निकाय में भिन्न परिस्थितियों की तुलना करने का परिणाम होता है। यहाँ परिणाम का अन्तर उसे प्रदर्शित करने से होने वाले सामजिक परिणामों से नहीं है बल्कि उन निकायों की भौतिक परिस्थिति अलग-अलग है अथवा एक की सुन्दरता दूसरी से अधिक है। यदि दो वस्तुओं अथवा निकायों में अन्तर शून्य है तो दोनो को सर्वांगसम अथवा अभिन्न कहा जाता है, लेकिन यदि किन्हीं दो वस्तुओं के केवल दो गुणों में अन्तर शून्य हो तो दोनों का सर्वांगसम होना आवश्यक नहीं है।

उदाहरण

  • कोयल और कव्वे के रंग में कोई अंतर नहीं है, पर आवाज़ में ज़मीन-आसमान का अंतर है।
  • संतान तो संतान है, उसमें बेटा- बेटी का अंतर करना अच्छी बात नहीं।
  • अंतर-विश्वविद्यालय प्रतियोगिता

मूल

अन्य अर्थ

भिन्न, भीतरी मन, दूरी, भिन्न्ता, आत्मा

संबंधित शब्द

हिंदी में

अंतरण, अंतरंग, अंतरात्मा, अंतरस्थ, अंतरा, अंतरतम, अंतराल, अंतिरक्ष।

अन्य भारतीय भाषाओं में निकटतम शब्द

फ़ारसी - फ़र्क

सन्दर्भ

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अंतर ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ अन्तर]

१. फर्क । भेद । विभिन्नता । अलगाव । फेर । उ॰—(क) संत भगवंत अंतर निरंतर नहीं किमपि मति- मलिन कह दास तुलसी ।—तुलसी ग्रं॰, भा॰ २, पृ॰ ४८८ । (ख) इसके और उसके स्वाद में कुछ अंतर नहीं है (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—करना=फर्क या भेद करना । उ॰—मोहि चंद बरदाय सु अतर मति करयो ।—पृ॰ रा॰ ५८ । १२६ ।—देना ।— पड़ना ।—रखना=भेदभाव रखना । उ॰—ब्रजवासी लोगन सों मैं तो अंतर कछू न राख्यो ।—सूर (शब्द॰) ।—होना ।

२. बीच । मध्य । फासला । दूरी । अवकाश । उ॰—‘यह विचारो कि मथुरा और वृंदावन का अंतर ही क्या है’ ।— प्रेमसागर (शब्द॰) ।

३. दो घटनाओ के बीच का समय । मध्य वर्ती काल । उ॰—(क) इहिं अंतर मधुकर इक आयौ ।— सूर॰, १० । ३४९७ । (ख) ‘इस अंतर में स्तन दूध से भर जाते हैं’ ।—वनिताविनोद (शब्द॰) ।

४. दो वस्तुओं के बीच में पड़ी हुई चीज । ओट । आड़ । परदा । उ॰—कठिन बचन सुनि स्त्रवन जानकी सकी न हिये सँभारि । तृन अंतर दै दृष्टि तरौंधी दई नयन जल ढारि ।—सूर॰, ९ । ७९ । क्रि॰ प्र॰—करना=आड़ करना । उ॰—अपने कुल को कलह क्यों देखहिँ रबि भगवंत । यहै जानि अंतर कियो मानो मही अनंत ।—केशब (शब्द॰) ।—डालना ।—देना=ओट करना । उ॰—पट अतर दै भोग लगायौ आरति करी बनाइ ।—सूर॰, १० । २६१ ।— पड़ना ।

५. छिद्र । छेद । रंध्र । दरार ।

६. भीतर का भाग । उ॰—‘दास’ अँगिराति जमुहाति तकि झुकि जाति, दीने पट, अंतर अनत आप झलकै ।—भिखारी॰ ग्रं॰, भा॰ १, पृ॰ १४३ ।

७. प्रवेश । पहुँच (को॰) ।

८. शेष । बाकी । गणित मे शेषफल (को॰) ।

९. विशेषता । उ॰— अंतरौ एक कैमास सुनि मरन तुच्छ मारन बहुल ।—पृ॰ रा॰, १२ । १६८ ।

१०. निर्बलता (को॰) ।

११. दोष । त्रुटि (को॰) ।

१२. अभाव (को॰) ।

१३. प्रयोजन (को॰) ।

१४. लिहाज (को॰) ।

१५. छिपाव (को॰) ।

१६. निश्चय (को॰) ।

१७. प्रतिनिधि (को॰) ।

१८. वस्त्र (को॰) ।

१९. हृदय । अंतः करण । जी । मन । चित्त । उ॰—जिहि जिहि भाइ करत जब सेवा अंतर की गति जानत ।—सूर॰, १ । १३ । (ख) अंतर प्रेम तासु पहिचाना । मुनि दुरलभ गति दीह्न सुजाना ।—तुलसी (शब्द॰) ।

२०. आत्मा (को॰) ।

२१. परमात्मा (को॰) ।

२२. स्थान (को॰) ।

२३. आशय (को॰) ।

अंतर ^२ वि॰

१. अंतर्धान । गायब । लुप्त । उ॰—कृपा करी हरि कुँवरि जिआई । अंतर आप भए सुरराई ।—महाभारत (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—करना—होना=अदृश्य होना । उ॰—मोहीं ते परी री चूक अंतर भए हैं जातें तुमसों कहति बातैं मैं ही कियो द्वंदन ।—सूर (शब्द॰) ।

२. दूसरा । अन्य । और । विशेष—इस अर्थ में इस शब्द का प्रयोग प्रायः यौगिक शब्दों में मिलता है; जैसे, ग्रंथातर, स्थांनांतर, कालांतर, देशांतर, पाठां- तर, मतांतर, यज्ञांतर इत्यादि ।

३. समीप । आसन्न । निकट (को॰) ।

४. आत्मीय । प्यारा (को॰) ।

५. समान (स्वर या शब्द); (को॰) ।

६. भीतरी । भीतर का (को॰) ।

अंतर ^३ क्रि॰ वि॰

१. दूर । अलग । जुदा । पृथक् । विलग । उ॰— कहाँ गए गिरिधर तजि मोकौं ह्याँ मैं कैसे आई । सूर श्याम अंतर भए मोते अपनी चूक सुनाई ।—सूर (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—करना=दूर करना । पृथक् करना । उ॰—सूरदास प्रभु को हियरे ते अंतर करौ नही छिनही ।—सूर (शब्द॰) ।—होना ।

२. भीतर । अंतर । उ॰—(क) मोहन मूरति स्याम की अति अद्भुत गति जोइ । बसत सुचित अंतर तऊ प्रतिबिंबित जग होइ ।—बिहारी (शब्द॰) । (ख) चिंता ज्वाल शरीर बन दावा लगि लगि जाइ । प्रगट धुआँ नहिं देखिए उर अंतर धुधुआइ ।—दीनदयाल (शब्द॰) । (ग) बाहर गर लगाइ राखौंगी अंतर करौंगी समाधि ।—हरिश्चंद्र (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—करना—भीतर करना । ढाँकना । छिपाना । उ॰— फिरि चमक चोप लगाइ चंचल तनहिँ तब अंतर करै (शब्द॰) ।

अंतर ^४ पु संज्ञा पुं॰ दे॰ ‘अंतर’ । उ॰—जवादि केसरं सुरं । पलं सु सत्त अंतरं ।—पृ॰ रा॰, ६६ । ६० ।

अंतर ^५ पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ अन्त्न, प्रा॰ अंत, अप॰ अंत्रडी] आँत । अँतड़ी । उ॰—(क) करंत हक्क हक्कयं । क्रमंत धक्क धक्कयं । चढंत देत दंतरं । अरू अझंत अंतरं ।—पृ॰ रा॰, ९ । १७५ । (ख) बृहंत सार बार पार ता रुरंत अंतरं । ग्रहंत दंत दंत एक कंठ कंठ मंतरं ।—पृ॰ रा॰, ५८ । २४३ ।

अंतर अयण संज्ञा पुं॰ [सं॰ अन्तर+अयण] नीचे जाना । विलोपन [को॰] ।

अंतर अयन संज्ञा पुं॰ [सं॰ अन्तर+अयन]

१. तीर्थों की एक परिक्रमा विशेष अंतर्गृही ।

२. एक देश का नाम ।

३. काशी का मध्य भाग । उ॰—अंतर अयन अयन भल, थन फल, बच्छ बेद विस्वासी ।—तुलसी ग्रं॰, पृ॰ ४६४ ।

अंतर वि॰ [ सं॰ अन्तर ] भीतर । बीच में । विशेष—समस्त पदों में इस शब्द के अंतः; अंतर्, अंतश् और अंतस् रूप यथानियम हो जाते हैं ।