आँटी

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आँटी संज्ञा स्त्री [सं॰ अण्ड]

१. लंबे तृणों का छोटा गट्ठा । पुला ।

२. लडकों के खेलने की गुल्ली । उ॰—दियो जनाय वात सो हरी स्वरुप बालके । गोविंद स्वामी संग आँटि दंड खेल हालके ।—रघुराज॰ (शब्द॰) ।

३. कुश्ती का एक पेंच जिसमें विपक्षो की टाँग में टाँग अडाते हैं और उसे कमर पर लादकर गिराते और चित करते हैं । क्रि॰ प्र॰—मारना ।

४. सुत का लच्छा ।

५. धोती की गिरह । टेंट । मुर्रा । उ॰— आपकी आँटी निकसी नाहीं तो करज बहुत सिर लीन्हा । कबीर ग्रं॰,पृ॰ १० । क्रि॰ प्र॰—देना । लगाना ।