आइना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आइना † संज्ञा पुं॰ [फा॰ आइनह्] दे॰ ' आईना' । उ॰— है निराली प्रभु- कला जिसमें बसी, सवह निराला आईना है फूटता । - चोखे॰, पृ॰ २३ ।