आकबत

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आकबत संज्ञा स्त्री॰ [अ॰ आक़त] मंरने के पीछे अवस्थ । पर- लोक । जैसे, - बाबा, दिया लिया ही आकवत में काम आवेगा । यौ॰—आकबतअ देश । आकहतअंदेशी । क्रि॰ प्र॰ बिगड़ना = (१) परलोक बिगड़ना । परलोक नष्ठ ।