आकबतीलङ्गर

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आकबतीलंगर संज्ञा पुं॰ [ अ॰ आक़बत + फा़॰ ई॰ ( प्रत्य.) + हिं॰ लंगर] एक प्रकार का लंगर जो जहाज पर अगले मस्तूल की रस्सियों या रिंगिन के पास बीच के टूटक में रहता है और आफत के वक्त ड़ाला जाता हैं ।