आकरकरहा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आकरकरहा संज्ञा पुं॰ [अ॰] एक जड़ी जिसे मुँह में रखने जीभ में चुनचुनाहट होती है और मुँह से पानी निकलता है । यह एक वृक्ष की लकड़ी है । आकरकढ़ा । दे॰'अकरकरा' ।