आकाशास्तिकाय

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आकाशास्तिकाय संज्ञा पुं॰ [सं॰] जैनशास्त्रानुसार छह प्रकार के द्रव्यों में से एक । यह एक अरूपी पदार्थ है जो लोक और अलोक दोनों में है और जीव तथा पुद्गगल दोनों को स्थान या अवकाश देता है । आकाश ।