आनाकानी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आनाकानी संज्ञा स्त्री॰ [सं॰अनाकर्णन]

१. सुनी अनसुनी करने का कार्य । न ध्यान देने का कार्य । उ॰— आनाकानी आरसी निहारिनो करौगे कौ लौ ? —इतिहास, पृ॰ ३४१ ।

२. टाल- मटूल । हीला हवाला । जैसे, —माल तो ले आए, अब, रुपया देने में आनाकानी क्यों करते हो? क्रि॰ प्र॰—करना ।—देना ।

३. कानाफूसी । धीमी बातचित । इशारों की बात । उ॰— आनाकानी कठ हँसी मुहाचाही होन सगी देखि दसा कहत बिदेह बिलखाय कै ।—तुलसी (शब्द॰) ।