इँडहर

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

इँडहर संज्ञा पुं॰ [सं॰ पिष्ट + हिं॰ हर (प्रत्य॰)] उर्द की दाल से बना हुआ एक सालन । उ॰— अमृत इँडहर है रस सागर । बेसन सालन अधिकौ नागर । — सूर॰ १० । १२१३ । विशेष— यह इस रीति से बनता है: उर्द और चने की दाल एक साथ भिगो देते हैं, फिर दोनों की पीठी पीसते हैं । पीठी में मसाला देकर उसके लंबे लंबे टुकडे बनाते हैं । इन टुकडों को पहले अदहन में पकाते हैं, फिर निकालकर उनके और छोटे छोटे टुकडे करते हैं । अंत में इन टुकडों को घी में तलते हैं और रसा लगाकर पकाते हैं ।