ईक्षा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ईक्षा संज्ञा स्त्री॰[सं॰]

१. दृष्टि । दर्शन ।

२. विवेचन ।

३. आत्मज्ञान [कों॰] । विशेष— इसमें परि, अप, सम्, उप, प्र, वि आदि लगाकर परीक्षा, समीक्षा, अपेक्षा, उपेक्षा, वीक्षा आदि शब्द बनाए जाते हैं ।