उक्थ

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उक्थ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. भिन्न भिन्न देवताओं के वैदिक स्तोत्र ।

२. यज्ञ में वह दिन जब उक्थ का पाठ होता है ।

३. प्राण ।

४. ऋषभक नाम की अष्टवर्गीय ओषधि ।