उघरारा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उघरारा ^१पु † संज्ञा पुं॰ [हिं॰ उघड़ना, उघरना] [स्त्री॰ उघरारी] खुला हुआ स्थान । उ॰ —(क) पावस वरषि रहे उघरारैं, सिसिर समय बसि नीर मझारैं । —पद्माकर (शब्द॰) । (ख) रंग गयो उखरि कुरंग भयो परे परे, डारे उघरारे मारे फूंक के उड़त है । काशी राम राम सों परशुराम ऐसो कहतो तोरते धनुष ऐसे ऐसे बलकत है । —हनुमन्नाटक (शब्द॰) ।

उघरारा पु † ^२ वि॰ खुला हुआ । खुला रहनेवाला ।