उघरावना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उघरावना क्रि॰ स॰ [हिं॰ ] दे॰ 'उगाहना' । उ॰— अटक गोपी मही दांण उघरावजै, पावजै अधर रस गोरधन पास । —बाँकी ग्रं॰, अ॰ ३, पृ॰ ११९ ।