उचकाना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उचकाना क्रि॰ सं॰ [हिं॰ 'उचकना'] उठाना । ऊपर करना । उ॰——स्याम लियो गिरिराज उठाइ । सत्य वचन गिरि देव कहत हैं कान्ह लेहि मोहिं कर उचकाइ ।—सूर॰, १० । ८२१ ।