ऊँचे

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊँचे †पु क्रि॰ वि॰ [ हिं॰ऊँचा ]

१. ऊँचे पर । ऊपर की ओर । उ॰— ऊँचे चितै सराहियत गिरह कबूतर लेत ।—बिहारी (शब्द॰) ।

२. जोर से ( शब्द करना ) । उ॰— अवसर हार्यों रे तै हारच्यो । हरि भजु बिलँब छांडि सूरज प्रभु ऊँचे टेरि पुकारयो । सूर (शब्द॰) । मुहा॰—ऊँचे नीचे पैर पड़ना = व्यभिचार में फँसना । विशेष— खडी़ बोली में वि॰ 'नीचा' से क्रि॰ वि॰ 'नीचे' तो बनाते हैं । पर 'ऊँचा' से 'ऊँचे' नहीं बनाते । पर ब्रजभाषा तथा और और प्रांतिक बोलियों में इस रूप का क्रि॰ वि॰ की तरह प्रयोग बराबर मिलता है ।