ऊगर

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊगर पु † क्रि॰ अ॰ [सं॰ उद्+ √गृ; प्रा॰ उग्गिल; राज॰ उगरणो उवरणी] बच रहना । निकलना । उ॰—आव धरा दस अनम्यउ, महलाँ ऊपर मेह । बाहर थाजइ ऊगरइ भीगा माँझ धरेह । —ढोला, दू॰ २७२ ।