ऊजना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊजना पु क्रि॰ अ॰ [हिं॰ उ+कूजन > उ+२ऊजन>ऊजन] आंदोलित होना । उमंगित होना । उ॰—आवैं कहूँ मनमोहन मो गली पूरब भागन को ब्रज ऊजै । —घनानंद, पृ॰ २०३ ।