ऊढ़ना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊढ़ना पु क्रि॰ अ॰ [सं॰ ऊह=संदेह पर विचार]

१. तर्क करना । चोच विचार करना । अनुमान बाँधन । उ॰—मृगमद नाहिन मृगन मैं ऊढत हैं दिन राति । तिल तरूनि के चिबुक में सोई मृगमद भाति ।—मुबारख (शब्द॰) ।