ऊरधरेता

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊरधरेता पु वि॰ [सं॰ ऊर्ध्वरेतस्] दे॰ 'ऊर्ध्वरेता' । उ॰—अरू समुझाये योग ही बहु भाँति बहु अंग । ऊपधरेता ही कही जीतन विंद अनंग । —भक्ति॰, पृ॰ ५७ ।