ऊर्द्ध्वद्वार

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊर्द्ध्वद्वार संज्ञा पुं॰ [सं॰ ] ब्रह्मरंध्र । दसवाँ द्वार । ब्रह्मांड का छिद्र । विशेष—कहते हैं, इससे प्राण निकलने पर मुक्ति होती है ।