ऊवाबाई

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊवाबाई पु † अव्य॰ [देश॰] ऊटपटाँग । व्यर्थ । उ॰—ऊपर तेरे पहिचानै, ऊवाबाई जगतहिं जानै ।—सुंदर ग्रं॰, भा॰ १, पृ॰ २१९ ।