एकतारा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

एकतारा संज्ञा पुं॰ [हिं॰ एक+ तार] एक तार का सितार या बाजा । विशेष—इनमें एक डंडा होता है जिसके एक छोर पर चमड़े स े मढ़ा हुआ तूँबा लगा रहता है और दूसरे छोर पर एक खूँटी होती है । डंडे के एक छोर से लेकर दूसरे छोर की खूँटी तक एक तार बँधा रहता है जो मढ़े हुए चमड़े के बीचोबीच घोड़िया पर से होकर जाता है । तार को अँगूठे के पासवाली उँगली (तर्जनी) से बजाते हैं ।