एकमेक

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

एकमेक वि॰ [हिं॰] दो या इनसे अधिक के मिलकर एक होने का भाव । एकाकार या तद्रूप होना । उ॰—धरती अंबर जायँगे, बिनसैंगे कैलास । एकमेक होइ जायँगे, तब कहाँ रहैंगे दास ।—कबीर सा॰, भा॰ १, पृ॰ २१ ।