ओखली

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ओखली संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ उलूखलिका; प्रा॰ ओक्खली] काठ या पत्थर का बना हुआ गहरा बरतन जिसमें धान या और किसी अन्न को डालकर भूसी अलग करने के लिये मूसल से कूटते हैं । काँडी । हावन । मुहा॰—ओखली में सिर देना=अपनी इच्छा से किसी झंझट मे ं पड़ना । कष्ट सहने पर उतारू होना । जैसे, —अब तो हम ओखली में सिर दे ही चुके हैं, जो चाहे सो हो ।