ओटपाय

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ओटपाय संज्ञा पुं॰ [सं॰ अष्टपाद, प्रा॰ अट्ठापाव] दे॰ 'अठपाव' । उ॰—चाड़ सिर चढ़त बढ़त अति लाडिलो ह्वै कैसे गनै बनै जेब ओटपाय तब के ।—घनानंद॰, पृ॰ ४६ ।