ओपची

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ओपची संज्ञा पुं॰ [हिं॰ ओप( = चमक)+तु॰ ची (प्रत्य॰) = वाला] वह जोधा जिसके शरीर पर झिलिम चमकता है । कवचधारी योद्धा । रक्षक योद्धा । उ॰—(क) किते बीर तनुत्रान को अंग साजैं । किते ओपची ह्वै धरे ओप गाजैं ।—सूदन (शब्द॰) । (ख) जिरही सिलाही ओपची उमड़े हथ्यारन कों लिये ।—पद्माकर ग्रं॰, पृ॰ ११ । यौ॰ओपचीखाना = चौकी ।