की

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

की ^१ प्रत्य॰ [हिं॰ का] हिं॰ विभक्ति 'का' का स्त्री॰ । जैसे,— उसकी गाय ।

की ^३ अव्य॰ [हिं॰ 'कि' का विकृत रूप]

१. क्या । उ॰—अपयश योग की जानकी, ममि चारों की कान्हि ।—तुलसी (शब्द॰) २ या । या तो । उ॰—को मुख पट दीन्हैं रहैं, की यथार्थ भाखंत ।—तुलसी (शब्द॰) ।

की ^४ संज्ञा स्त्री॰ [अ॰]

१. वह पुस्तक जिसमें किसी ग्रंथ या पुस्तक के कठिन शब्दों के अर्थ या उनकी व्याख्या की गई हो । कुंजी

२. चाबी । ताली ।