कुल

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कुल ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. वंश । घराना । खानदान । यौ॰—कुलकानि । कुलपति । कुलकलंक । कुलाँगार । कुलतिलक । कुलभूषण । कुलकंटक, आदि । मुहा॰—कुल बखानना (१) वंशविरुदावली वर्णन करना (२) बहुत गालियाँ देना ।

२. जाति ।

३. समूह । समुदाय । झुंड । जैसे—कविकुलभूषण । कविकुलतिलक आदि ।

४. भवन । घर । मकान । जैसे— गुरुकुल, ऋषिकुल आदि ।

५. तंत्र के अनुसार प्रकृति, काल, आकाश, जल, तेज, वायु आदि पदार्थ ।

६. वाम मार्ग । कौल धर्म ।

७. संगीत में एक ताल जिसमें इस प्रकार १५ मात्राएँ होती हैं—द्रुत, लघुद्रुत, लघु, द्रुत, लघु द्रुत, द्रुत, द्रुत लघु, द्रुत, द्रुत, द्रुत, द्रुत और लघु ।

८. स्मृति के अनुसार व्यापारियों या कारीगरों का संघ । श्रेणी । कंपनी ।

९. कौटिल्य के अनुसार शासन करनेवाले उच्च कुल के लोगों का मंडल । कुलीनतंत्र राज्य ।

१०. देह । शरीर (को॰) ।

११. अगला भाग । आगे का हिस्सा (को॰) ।

१२. एक प्रकार का नीला पत्थर [को॰] ।

१३. गोत्र (को॰) ।

१४. नगर । जनपद (को॰) ।

१५. तंत्र के अनुसार कुंडलिनी शक्ति जो मूलाधार चक्र में है (को॰) ।

कुल ^२ वि॰ [अ॰] समस्त । सब । सारा । पूरा । तमास । यौ॰—कुल जमा = (१) सब मिलाकर । (२) केवल । मात्र ।