खोज

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

खोज संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ खोजना]

१. अनुसंधान । तलाश । शोध । क्रि॰ प्र॰—करना ।—लगाना ।—होना । मुहा॰—खोज खबर लेना = हालचाल जानना ।

२. चिह्न । निशान । पता । उ॰—(क) रथ कर खोज कतहुँ नहिं पावहिं । राम राम कहि चहुँ दिसि धावहिं ।—तुलसी (शब्द॰) । (ख) राखौं नहिं काहू सब मारौं । ब्रज गोकुल को खोज निवारौं ।—सूर (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—पाना ।—लगाना । मुहा॰—खोज मिटाना = नष्ट करना । ध्वस्त करना । बरबाद करना । चिह्न तक न रहने देना ।

३. गाड़ी के पहिए की लीक अथवा पैर आदि का चिह्न । उ॰— चंदन माँझ कुरंभिन खोजू । ओहि को पाव को राजा भोजू । जायसी (शब्द॰) । मुहा॰—खोज मारना = लीक या पैर आदि का चिह्न इस प्रकार बचाना या नष्ट करना जिसमें कोई पता न लगा सके । उ॰—खोज मारि रथ हाकहु ताता । आन उपाय बनहिं नहिं बाता ।—तुलसी (शब्द॰) ।

खोज ।

६. कस्तुरी का नाफा ।

१०. ज्योतिष में शुक्र की नी वीथियों में से आठवीं बीथी जो अनुराधा, ज्योष्ठा और मुल में पड़ती है ।

११. पुरुष के चार भेदों में से एक । विशेष—मृग जाति का पुरुष मधुरभाषी, बड़ी आँखोंवाला, भीरु चपल, सुंदर और तेज चलनेवाला होता है । यह चित्रिणी स्त्री के लिये उपयुक्त कहा गया है ।

१२. वैष्णवों के तिलक का एक भेद ।

१३. चंद्रमा का लांछन । चंद्रमा में मृग का चिह्न (को॰) ।