गरेबान

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

गरेबान संज्ञा पुं॰ [फा़॰]

१. अंगे, कुरते आदि कपड़ों की काट और सिलाई में वह भाग जो गले पर पड़ता है । गला । मुहा॰—गरेबान चाक करना, गरेबान फाड़ना = (१) उन्माद की दशा में खासकर गले के नीचे के कपडे़ फाड़ना । (२) विक्षिप्त होना । पागल होना । गरेवान में मुँह या सिर डालना या छिपाना = (१) लज्जित या शरमिंदा होना । (२) अपराध स्वीकार करना ।

२. कोट आदि में वह पट्टी जो गले पर रहती है । कालर ।