गल्ला

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

गल्ला ^१ संज्ञा पुं॰ [अ॰ गुल, हिं॰ गुल्ला; जैसे हल्ला गुल्ला] शोर । हौरा उ॰—हल्ला परचो अवध महल्ला ते महल्ला मध्य गल्ला मच्यो बाहर हू जनम कुमार को—रघुराज (शब्द॰) ।

गल्ला ^२ संज्ञा पुं॰ [फा॰ गल्लह] झुंड । दल । विशेष—इस शब्द का प्रयोग प्रायः चरनेवाले पशुओं के लिये होता है । जैसे,—गाय भैंस का गल्ला । भैड़ बकरियों का गल्ला ।

गल्ला ^३ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ गोल] एक प्रकार का बेत जिसे गोला भी कहतें हैं ।

गल्ला ^४ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ गाल] उतना अन्न जितना एक बार चक्की में पीसने के लिये डाला जाय । कौरी ।

गल्ला ^५ संज्ञा पुं॰ [अ॰ गल्लह] [वि॰ गल्लई]

१. जोतने बोने से उत्पन्न होनेवाले पौधों के फल, फूल आदि की उपज । फसल । पैदावार । उपज ।

२. अन्न । अनाज । यौ॰—गल्लाफरोश ।

३. वह धन जो दूकान पर नित्य की विक्री से मिलता है । धनराशि । गोलक ।

४. मद । फंड । खाता ।