घंटा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

घंटा संज्ञा पुं॰ [सं॰] [स्त्री॰ अल्पा॰ घंटी]

१. धातु का एक बाजा जो केवल ध्वनि उत्पन्न करने के लिये होता है, राग बजाने के लिये नहीं । विशेष—यह दो प्रकार का होता है । एक तो औंधे बरतन के आकार का जिसमें एक लंगर लटकता रहता है और जो लंगर के हिलने से बजता है । दूसरा जिसे घड़ियाल कहते हैं थाली की तरह गोल होता है मुँगरी से ठोंककर बजाया जाता है । क्रि॰ प्र॰—बजाना । मुहा॰—घंटे मोरछल से उठाना= अत्यंत वृद्ध के शव को बाजे गाजे के साथ श्मशान पर ले जाना ।

२. वह घड़ियाल जो समय की सूचना देने के लिये बजाया जाता है ।

३. घंटा बजने का शब्द । घंटे की ध्वनि । जैसे— घंटा सुनते ही सब लोग चल पड़े । क्रि॰ प्र॰—होना ।

४. दिन रात का चौबीसवाँ भाग । साठ मिनट या ढाई घड़ी का समय ।

५. लिंगेंद्रिय—(बाजारू) ।

६. ठेंगा । मुहा॰—घंटा दिखाना = किसी माँगने या चाहनेवाले को कोई वस्तु न देना । किसी माँगी या चाही हुई वस्तु का अभाव बताना । जैसे,—रुपया माँगने जाओगे तो वह घंटा दिखा देगा । घंटा हिलाना = व्यर्थ का काम करना । झख मारना । सिर पटकना । हाथ मलना । जैसे,—तुम समय पर तो यहाँ पहुँचे नहीं; अब घंटा हिलाओ ।