चिकारा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

चिकारा संज्ञा पुं॰ [हिं॰ चिकार] [स्त्री॰ अल्पा चिकारी]

१. सारंग की तरह का एक बाजा । विशेष—इस बाजे में जिसमें नीचे की ओर चमड़े से मढ़ा कटोरा रहता है और ऊपर ड़ाँड़ी निकली रहती है । चमड़े के ऊपर से गए हुए तारों या घोड़े के बालों को कमानी से रेतने से शब्द निकलता है ।

२. हिरन कौ जाति का एक जंगली जानवर जो बहुत फुरतीला होता है । इसे छिकरा भी कहते हैं ।