चूल

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

चूल ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰] [स्त्री॰ चूला]

१. चोटी । शिखा ।

२. रीछ के बाल ।— (कलंदरों की भाषा)

३. सिर के बाल (बंग॰) ।

४. सबसे ऊपर का कमरा (को॰) ।

चूल ^२ संज्ञा स्त्री॰ [देश॰] किसी लकड़ी का वह पतला सिरा जो किसी दूसरी लकड़ी के छेद में उसके साथ जोड़ने के लिये ठोंका जाय । मुहा॰— चूलें ढीली होना = अधिक परिश्रम के कारण बहुत थकावट होना ।

चूल ^३ संज्ञा पुं॰ [देश॰] एक प्रकार का थूहड़ । वि॰ दे॰ 'चून' ^३ ।