छाता

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

छाता संज्ञा पुं॰ [सं॰ छत्र, प्रा॰ छत्त]

१. लोहे, बाँस आदि की तीलियों पर कपड़ा चढ़ाकर बनाया हुआ आच्छादन जिसे मनुष्य धूप, मेंह आदि से बचने के लिये काम में लाते हैं । बड़ी छतरी । उ॰—फूला कँवल रहा होइ राता । सहस सहस पखुरिन कर छाता । जायसी ग्रं॰, पृ॰ १२ । मुहा॰—छाता देना या लगाना = (१) छाते का व्यवहार करना । (२) छाता ऊपर तानना ।

२. छत्ता । खुमी ।

३. चौड़ी छाती । विशाल वक्षस्थल ।

४. वक्षस्थल की चौडाई की नाप ।