जज

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जज ^१ संज्ञा पुं॰ [अं॰]

१. न्यायाधीश । विचारपति । न्याय करनेवाला ।

२. दीवानी और फौजदारी के मुकदमों का फैसला करनेवाला बड़ा हाकिम । विशेष—भारतबर्ष में प्रायः एक या अधिक जिलों के लिये एक बज होता हैं, जो डिस्ट्रिक्ट जज (जिला जज) कहलाता है । जिले के अंदर अंतिम अपील जज के यहाँ हो होती है । यौ॰—दौरा या सेशंस (सेशन) जज = वह जज जो कई जिलों में घूम घूमकर कुछ विशेष बड़े मुकदमों का फैसला कुछ विशिष्ट अवसरों पर करें । सबजज = दे॰ 'सदराला' । सिविल जज = दीवानी की छोटी अदालत का हाकिम ।

जज ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰] योद्धा ।