जिन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जिन ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. विष्णु ।

२. सूर्य ।

३. बुद्ध ।

४. जैनों के तीर्थंकर । यौ॰—जिन सदन = जिनसद्म । जैन मंदिर ।

जिन ^२ वि॰

१. जीतनेवाला । जयी ।

२. राग द्वेष आदि जीतनेवाला ।

३. वृद्ध [को॰] ।

जिन ^३ वि॰ [सं॰ यानि] 'जिस' का बहुवचन ।

जिन ^४ सर्व॰ [हिं॰] 'जिस' का बहुवचन ।

जिन ^५ संज्ञा पुं॰ [अ॰] भूत । मुहा॰—जिन का साया = जिन लगना । जिन चढ़ना, जिन सवार होना = क्रोध के आवेश में होना । क्रोधांध होना ।

जिन ^६ अव्य॰ [हिं॰ जनि] मत । उ॰—सोच करो जिन होहु सुखी मतिराम प्रवीन सबै नरनारी । मंजुल बंजुल कुंजन में घन, पुंज सखी ससुरारि तिहारी ।—मति॰ ग्रं॰, पृ॰ २९० ।

जिन ^७ संज्ञा पुं॰ [अं॰] एक प्रकार की शराब । उ॰—जिन का एक देग ।—वो दुनिया, पृ॰ १४२ ।

जिन बखसीसति सदा घमंडहि मूरखताई ।—श्रीधर पाठक (शब्द॰) ।