जेठ

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जेठ संज्ञा पुं॰ [सं॰ ज्येष्ठ]

१. एक चांद्र मास जो बैशाख और असाढ़ के बीच में पड़ता है । विशेष— जिस दिन इस मास की पूर्णिमा होती है उस दिन चंद्रमा ज्येष्ठा नक्षत्र में रहता है, इसी से इसे ज्येष्ठ या जेठ कहते हैं । यह ग्रीष्म ऋतु का पहला और संवत् का तीसरा मास है । सौर मास के हिसाब से जेठ वृष संक्रांति से आरंभ होकर मिथुन संक्रांति तक रहता है ।

२. [स्त्री॰ जेठानी] पति का बड़ा भाई । भसुर ।

जेठ ^१ वि॰ अग्रज । बड़ा । उ॰—जेठ स्वामि सेवक लघु भाई । यह दिनकर कुल रीति सुहाई ।—तुलसी (शब्द॰) ।