झई

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

झई †पु संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰]दे॰ 'झाँई' । उ॰—को जाने काहू के जिय की छिन छिन होत नई । सूरदास स्वामी के बिछुरे लागे प्रेम झई ।—सूर (शब्द॰) ।