झाड़

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

झाड़ ^२ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ झाड़ना]

१. झाड़ने की क्रिया । झटककर या झाड़ू आदि देकर साफ करने की क्रिया । यौ॰—झाड़ पौंछ = झाड़ और पौंछकर साफ करने की क्रिया । क्रि॰ प्र॰—करना ।—रखना ।—होना । विशेष— इस शब्द का प्रयोग यौगिक शब्दों ही में विशेषतः होता है । जैसे, झाड़पोंछ, झाड़बुहार, झाड़झूड़ ।

२. बहुत ड़ाँट या फटकारकर कही हुई बात । फटकार । ड़ाँटड़पट । क्रि॰ प्र॰—देना ।—बताना ।—सुनना ।—सुनाना ।

३. मंत्र से झाड़ने की क्रिया । यौ॰—झाड़ फूँक = मंत्रोपचार ।

झाड़ ^४ संज्ञा पुं॰ [हिं॰झाड़ना] झटका (कुश्ती) ।

झाड़ झंखाड़ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ झाड़ + झंखा़ड़]

१. काँटेदार झाड़ियों का समूह ।

२. व्यर्थ की निकम्मी चीजों का समूह ।