टोट

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

टोट संज्ञा पुं॰ [हिं॰]दे॰ 'टोटा' । उ॰—रोम रोम पूरि पीर, ब्याकुल सरीर महा, घूमै मति गति आसै, प्यास की न टौठ है ।—घनानंद, पृ॰ ६६ ।