ठसक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठसक संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ ठस]

१. अभिमानपूर्ण हाव भाव । गर्वीली चेष्टा । नखरा । जैसे,—वह बड़ी ठसक से चलती है ।

२. अभिमान । दर्प । शान । उ॰—कढ़ि गई रैयत के जिय की कसक सब मिटि गई ठसक तमाम तुरकाने की—भूषण (शब्द॰) ।