डँगवारा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

डँगवारा संज्ञा पुं॰ [हिं॰ डंगर(= बैल, चौपाया)] हल बैल आदि की वह सहायता जिसे किसान एक दूसरे को देते हैं । जिता ।