ढड़काना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ढड़काना पु क्रि॰ स॰ [हिं॰] आगे बढ़ाना । जोर लगाकर ठेलना । ढलकाना । उ॰— गाड़ी थाकी मार्ग में, बछड़न करी न पेश । अब गाड़ी ढड़गाय दे, धवल धंग हिरदेश ।— शुक्ल अभि॰ ग्रं॰ (इति॰), पृ॰ ८८ ।